कैल्शियम की कमी के कारण, लक्षण और उपाय। Calcium deficiency causes symptoms and treatment in hindi

शरीर में कैल्शियम(Calcium) की कमी का मतलब अगर आप दांत, नाख़ून, हड्डी और जोड़ों का कमज़ोर होना ही समझते है, तो आप बिलकुल गलत सोच रहें है। कोशिकाओं के कार्य, तंत्रिका तंत्र का संचार, हॉर्मोन(Hormone) का स्त्राव, रक्त का थक्का जमना, मांशपेशियों के संकुचन(Contraction) और फैलने जैसे हर कार्य में भी कैल्शियम की अहम भूमिका होती है। यही वजह है कि कैल्शियम की कमी होने से कई तरह की बीमारियां हमें घेर लेती है। इतना ही नहीं Calcium की कमी कार्डियक अरेस्ट(Cardiac arrest-हृदय गति रुकना) का कारण भी हो सकता है। तो चलिए आज इसी विषय पर बात करते है कि Calcium की कमी क्यों होती है इसके कारण और उपाय क्या है :-

Calcium deficiency causes symptoms and treatment in hindi  

Calcium deficiency causes symptoms and treatment in hindi
हाल ही में Cedars-Sinai Heart Institute में हुई हुई एक स्टडी के मुताबिक कार्डियक अरेस्ट की वजह Serum Calcium का स्तर कम होना भी माना गया है। रिसर्च के अनुसार सीरम कैल्शियम Blood Pressure नियंत्रित रखने और डायबिटीज से बचाव में भी बेहद फायदेमंद है। अध्ययन में यह भी पाया गया है कि जिन लोगों का सीरम कैल्शियम स्तर कम था उनमें कार्डियक अरेस्ट(Cardiac arrest) के मामले अधिक पाए गए है।

Table of Content :-


 #  Calcium की कमी का कारण क्या है :-What is the reason for calcium deficiency in hindi. 

ये कारण होते है Calcium की कमी के :-
ज्यादातर हमारी लाइफस्टाइल ही बीमारियों की ख़ास वजह होती है जैसे भूखे रहना(डाइटिंग करना), पोषण की कमी और प्रीमैच्योर डिलीवरी(समय से पहले डिलीवरी होना) की वजह से कैल्शियम की कमी(Deficiency of Calcium) होती है। इसके अतिरिक्त हॉर्मोन की गड़बड़ी हाइपो पैराथॉयराइड्ज़म(Hypo-parathyrhydasm) में आवश्यक मात्रा में पैराथाइरॉइड(Parathyroid) हॉर्मोन का निर्माण नहीं हो पाता है, जो ब्लड में Calcium की मात्रा को नियंत्रित करता है। मैलएब्जॉर्ब्शन स्थिति में पोषक तत्व होने के बाद भी शरीर विटामिन और मिनरल्स को अवशोषित नहीं कर पाटा है विटामिन और मैग्नीशियम की कमी, सोडियम और फॉस्फोरस का अधिक मात्रा में सेवन, Kidney की बिमारी में कैल्शियम कम होने लगता है।

बहुत से लोग उम्र के साथ Calcium की कमी का महसूस करते है यह कमी बहुत से कारकों से हो सकती है जिनमें निम्न कारण शामिल है :-

  • आनुवांशिक कारण। 
  • लंबे समय तक अपने आहार में Calcium की कम मात्रा लेना।  
  • दवाएं जो कैल्शियम के प्रभाव को कम करती हो। 
  • हॉर्मोन्स में बदलाव होना।
  • उचित Calcium युक्त भोजन का सेवन न करना। 
हर उम्र के व्यक्ति, बच्चे और महिला को अपनी उम्र के हिसाब से Calcium का सेवन करना चाहिए।
नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ हेल्थ (NIH) के अनुसार प्रतिदिन बच्चों के लिए इस प्रकार की डाइट को निर्धारित किया है।  

  • 0-6 महीने के बच्चों के लिए = 200 mg
  • 7-12 महीने के बच्चों के लिए = 260 mg
  • 1-3 साल के बच्चों के लिए = 700 mg
  • 4-8 साल के बच्चों के लिए = 1000 mg
  • 9-18 साल के बच्चों के लिए = 1300 mg (मिलीग्राम)
महिलाओं और पुरुषों में भी कैल्शियम की रोजाना की जरूरत अलग-अलग होती है।
  • 19-50 साल की महिलाओं के लिए = 1000 मिलीग्राम
  • 50 साल से अधिक उम्र की महिलाओं के लिए = 1200 मिलीग्राम
  • 19-70 साल के पुरुषों के लिए = 1000 मिलीग्राम
  • 70 साल से अधिक उम्र के पुरुषों के लिए = 1200 मिलीग्राम
  • इतनी कैल्शियम की मात्रा का प्रतिदिन सेवन जरूरी होता है इसलिए Calcium युक्त आहारों को अपनी डाइट में शामिल करें। 

मध्यम आयु(Middle Age) में शुरू होने वाली महिलाओं को पुरुषों की तुलना में जीवन में पहले कैल्शियम का सेवन बढ़ाने की जरूरत है। आवश्यक कैल्शियम की मात्रा आवश्यकता को पूरा करना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। रजोनिवृत्ति(Menopause)के दौरान, महिलाओं को ऑस्टियोपोरोसिस और कैल्शियम की कमी की बीमारी के जोखिम को कम करने के लिए अपने कैल्शियम सेवन में भी वृद्धि करनी चाहिए। रजोनिवृत्ति के दौरान हार्मोन एस्ट्रोजेन में गिरावट (Decline / पतन) से महिलाओं की हड्डियां पतली हो जाती हैं।

Calcium की कमी के अन्य कारणों में कुपोषण और कुअवशोषण (Malabsorption) शामिल हैं। कुपोषण तब होता है जब आपको पर्याप्त पोषक तत्व नहीं मिल रहे होते हैं, जबकि मैलाबॉस्पशन तब होता है जब आपका शरीर आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन से आवश्यक विटामिन और खनिजों को अवशोषित नहीं कर पाता है। अतिरिक्त कारणों में शामिल हैं। कैल्शियम की कमी से अल्पावधि(Short-Term) के लक्षण पैदा नहीं होंगे क्योंकि शरीर सीधे हड्डियों से इसे ले कर कैल्शियम के स्तर को बनाए रखता है। लेकिन कैल्शियम के लंबे समय तक निम्न स्तरों पर गंभीर प्रभाव हो सकते हैं।

 #  Calcium की कमी के लक्षण क्या है :-What are the symptoms of calcium deficiency in hindi. 


Calcium की कमी के लक्षण क्या है :-
Calcium की कमी होने पर शुरूआती दिनों में इसका पता नहीं चलता लेकिन समय के साथ-साथ इसके लक्षण दिखाई देने लगते है जिनमें शामिल है जैसे :-
  • मांसपेशियों में जकड़न या ऐंठन। 
  • याद्दाश्त कमज़ोर होना। 
  • Confusion रहना। 
  • अवसाद (Depression
  • नाखूनों का कमज़ोर होना। 
  • आसानी से हड्डी टूटना / Fracturing
  • चेहरे पर उदासी रहना। 
  • Calcium की कमी शरीर के सभी हिस्सों को प्रभावित कर सकती है, जिसके परिणामस्वरूप कमजोर नाखून, धीमी गति से बालों का बढ़ना, और नाजुक व पतली त्वचा का होना आदि। 
  • मसल क्रैम्प :- बॉडी में हीमोग्लोबिन और पानी की मात्रा सही होने के बाद भी मांसपेशियों में क्रैम्प या ऐंठन महसूस होना कैल्शियम की कमी का लक्षण हो सकता है। 
  • Heart beat तेज़ होना :- Calcium दिल को रक्त पंप करने में मदद करता है। ऐसे में कैल्शियम की कमी से दिल की धड़कन तेज़ होना और बेचैनी जैसे समस्याएं सामने आने लगती है। 
  • बालों का झड़ना :- Calcium की सही खुराक न मिलने पर बाल झड़ने लगते है। बालों का कठोर और रूखा होना भी Calcium की कमी(Deficiency of Calcium) का संकेत है।  
  • दांतों में दर्द होना :- शरीर का 90 प्रतिशत Calcium हमारे दांतों और हड्डियों में जमा होता। ऐसे में इसकी कमी दांत और हड्डी की सेहत के लिए नुकसानदायक है। 
  • कमज़ोर हड्डियां :- उम्र बढ़ने के साथ Calcium हड्डियों की Mineralization के लिए जरुरी होता है। कैल्शियम की कमी होने पर ऑस्टियोपोरोसिस(Osteoporosis) और फ्रेक्चर का खतरा रहता है।
  • नाखूनों का कमज़ोर होना :- अगर नाख़ून बिना वजह टूटने लगे या कमज़ोर दिखने लगे तो ये भी एक कैल्शियम की कमी का संकेत हो सकता है।   
यदि आप याद्दाश्त में कमी, चेहरे और पुरे शरीर में उदासी रहना, नाखूनों का कमज़ोर होना, या दौरे जैसे तंत्रिका तंत्र संबंधी लक्षणों का अनुभव करना शुरू करते हैं, तो जितनी जल्दी हो सके अपने डॉक्टर से सम्पर्क करें।

 #  Supplements भी होते है हानिकारक :- Supplements are also harmful.

शरीर के विकास और मसल्स का निर्माण करने में भी Calcium की अहम भूमिका होती है। जब शरीर को आवश्यक मात्रा में Calcium सही मात्रा में नहीं मिलता है तो यह स्थिति हाइपो-कैल्शियम(Hypocalcemia) कहलाती है। अक्सर लोग कैल्शियम की कमी होने पर Calcium युक्त डाइट और सप्लीमेंट्स लेना शुरू कर देते है। जो सही मायने में सेहत के उपर अपना बुरा प्रभाव छोड़ते है। 
दरअसल Supplements के अत्याधिक सेवन से कार्डियोवेस्कुलर और किडनी स्टोन जैसी बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती है। जैसे-जैसे हमारी उम्र ज्यादा होने लगती है वैसे-वैसे कैल्शियम की अधिक जरूरत होने लगती है। जिससे हमारी हड्डियां कमज़ोर और पतली होने लगती है। इसलिए Calcium की कमी को पूरा करने के लिए हम अपनी डाइट में Calcium से भरपूर खाद्य पदार्थों को अपने भोजन में शामिल कर सकते है। आप इस काम के लिए चिकित्सक से भी सलाह मशविरा कर सकते है और हाँ सप्लीमेंटस का सेवन भी डॉक्टर से सलाह करने के बाद ही करें। क्योंकि डॉक्टर सप्लीमेंट्स के फायदे और नुकसान के बारे में हमसे बेहतर जानते है।

 #  Calcium की कमी को पूरा करने के लिए खाद्य पदार्थ : - Foods to cure calcium deficiency in hindi

कैल्शियम की कमी को पूरा करने के लिए खाद्य पदार्थ :- 
  1. दूध और Beans :- एक Cup दूध से जरूरत का 27 से 35 Percent Calcium प्राप्त किया जा सकता है। दूध Vitamin-A और Vitamin-D का भी एक अच्छा स्त्रोत है। एक Cup Beans से रोजाना की आवश्यकता का 25 फीसदी Calcium प्राप्त किया जा सकता है।  
  2. बादाम और अंजीर(Almonds and figs) :- 15 से 20 बादाम से जरूरत का 8 Percent Calcium प्राप्त किया जा सकता है। अन्य सूखे मेवों की तुलना में अंजीर में Calcium अधिक मात्रा में पाया जाता है। अंजीर से रोजाना का 5 प्रतिशत कैल्शियम हासिल किया जा सकता है। 
  3. दही का सेवन :- दही कैल्शियम का मुख्य सोर्स है एक Cup यानी 245 ग्राम दही से रोजाना की जरूरत का 30 फीसदी कैल्शियम प्राप्त किया जा सकता है इसके अतिरिक्त इसमें Vitamin-B2, फॉस्फोरस और विटामिन B-12 भी होता है। 
  4. डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन :- डेयरी प्रोडक्ट्स में मौजूद Calcium अन्य स्त्रोत के मुकाबले ज्यादा आसानी से शरीर में अवशोषित हो जाता  है। 30 ग्राम पनीर से रोजाना 35 प्रतिशत कैल्शियम प्राप्त किया जा सकता है। 
  5. हरी पत्तेदार सब्ज़ियां :- हरी पत्तेदार सब्ज़ियों में स्वास्थ्य को मेन्टेन रखने की अविश्वसनीय ताकत होती है। इसलिए अपनी Diet में हरी सब्ज़ियों को जरूर शामिल करें। ब्रोकली, पालक(spinach), गोभी (गोभी में कैंसर के प्रभाव को कम करने की क्षमता होती है।), सरसों आदि पत्तेदार सब्ज़ियों से आप भरपूर मात्रा में कैल्शियम ले सकते है। 100 ग्राम हरी पत्तेदार सब्ज़ी का अगर आप सेवन करते है तो आपको 100 से लेकर 190 मिलीग्राम तक कैल्शियम मिल सकता है।     

 #  Conclusion :-

अगर आपको उपर बताए गए लक्षणों में से कोई लक्षण आपके शरीर में नजर आते है तो तुरंत सतर्क हो जाएं। अनुमान के तौर पर ये कैल्शियम की कमी भी हो सकती है या फिर कोई ओर भी समस्या हो सकती है लेकिन आप बिलकुल देर ना करें और चिकित्सक से अपनी जांच करवाएं। क्योंकि अगर आप शरीर में कैल्शियम की कमी को हल्के में लेते है या बिना Doctor की सलाह के अपने अनुसार ही कैल्शियम की पूर्ति करने के लिए किसी भी सप्लीमेंट्स का प्रयोग कर लेते है तो आपको सावधान होने की आवश्यकता है। आपकी एक छोटी सी लापरवाही बहुत सी गंभीर बीमारियों को निमंत्रण दे सकती है। यह बात Los Angeles में एक अध्ययन के परिणामस्वरूप सामने आई है। इसलिए सबसे पहले डॉक्टर से सलाह करें और अपनी जांच करवाएं। उसके बाद ही चिकित्सक के अनुसार दवाओं का सेवन करें।


 #  Read Also :-



 #  Extra Tips :-


 #  Cancer से राहत दिला सकती है कच्ची हल्दी :-

Calcium deficiency causes symptoms and treatment in hindi
एक रिसर्च ले अनुसार हल्दी में पाया जाने वाला तत्व "टर्मेरॉन " दिमाग की कोशिकाओं(Cells) को बढ़ाने में काफी सहायता करता है। जर्मनी के इंस्टिट्यूट ऑफ़ न्यूरोसाइंस एन्ड मेडिसिन के मुताबिक़ कच्ची हल्दी में पाया जाने वाला तत्व "टर्मेरॉन " के प्रभाव की स्टडी की। हल्दी में पाया जाने वाला एक अन्य तत्व "सर्कुमिन" सूजन को कम करता है। और कैंसर में भी लाभ पहुंचाता है। 

 #  स्मोकिंग छोड़िए, वरना हो जाएंगें डायबिटीज के शिकार :- 

Calcium deficiency causes symptoms and treatment in hindi
Diabetes के रोगियों की धूम्रपान करने की आदत मौत का खतरा दोगुना कर देती है। अमेरिका में स्थित कोलोराडो यूनिवर्सिटी में हुए एक अध्ययन के मुताबिक स्मोकिंग करने वाले डायबिटीज और सामान्य लोगों के बीच किया गया। अध्ययन में पता चला कि 13 प्रतिशत डायबिटीज लोगों की स्थिति गंभीर होने पर उनकी मौत हो गई। वहीं सामान्य लोगों में यह आंकड़ा 6.8 प्रतिशत ही था।  

 #  Final Words :-

हम आशा करते है कि आपको
Calcium deficiency causes symptoms and treatment in hindi   ये आर्टिकल
बेहद अच्छा लगा होगा।
अपने Opinion Comment Box में जरूर बताएं।

और हां Health से संबंधित ऐसे ही दिलचस्प Articles 
को अपने Inbox में सबसे पहले पाने के लिए इस साइट को Subscribe कीजिए।
धन्यवाद। 

Post a Comment

0 Comments

All Rights Reserved - Hashwh.com - 2018