आंखों के दर्द के ये सामान्य कारण आपको जरूर पता होने चाहिए - Aankhon ke dard ka karan aur ilaj in hindi.

आंख दर्द एक आम समस्या है, जो आंखों के आस-पास असुविधा का कारण बनती है। मेडिकली भाषा में इसे Ophthalmalgia कहा जाता है। यदि दर्द आंख की सतह पर है, तो इसे ओकुलर दर्द के रूप में जाना जाता है और यदि दर्द आंखों के भीतर मौजूद होता है तो इसे कक्षीय दर्द कहा जाता है। इसीलिए आज हम इस Article (Aankhon ke dard ka karan aur ilaj in hindi) के माध्यम से जानेगें कि Aankhon mein dard kyun Hota hai Aur kin-kin कारणों से होता है।  

ज्यादातर मामलों में, किसी भी दवा या उपचार के उपयोग के बिना ही आंखों का दर्द कम हो जाता है। हालांकि, बहुत ही कम मामलों में, यह एक अंतर्निहित गंभीर बीमारी का संकेत हो सकता है। यदि आपको देखने में समस्या के साथ गंभीर आंखों का दर्द होता है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श (सलाह) लें।

आंखों के दर्द के क्या कारण है?

Aankhon ke dard ka karan aur ilaj in hindi.

⇨ ओकुलर आंख दर्द के सामान्य कारणों में शामिल हैं


↬ विदेशी वस्तुऐं

ओकुलर दर्द के सामान्य कारणों में से एक है जब एक विदेशी वस्तु आंखों के संपर्क में आती है। ये आंखों में लाली, और आंखों में दर्द के साथ जलन पैदा कर सकता है। आम विदेशी वस्तुऐं जो आंखों को प्रभावित कर सकती हैं उनमें सौंदर्य प्रोडक्ट्स, Eyelashes, गंदगी (Dirt), और परेशानियों शामिल हैं। इसके अलावा, पूरी रात तक Lens आखों में पहनना या लेंस को ठीक तरह से कीटाणुशोधन नहीं करना भी आंखों में दर्द और जलन पैदा कर सकता है।

↬ आंखों की चोट 

आंखों के अंदर और आसपास होने वाली चोट अत्यधिक दर्द का कारण बन सकती है। दुर्घटना के समय गेंद या गहरे घावों से मारा जाने पर यह मामूली खरोंच के कारण हो सकता है। इससे आंखों में जलन, दर्द और सूजन हो सकती है। आखों की परेशानी या दर्द रसायनिक ब्लीच, एसिड, या क्षारीय (क्षार के गुणवाला) जैसे उत्पादों के संपर्क में आने से पैदा होती है, और यह आंखों को नुकसान पहुंचा सकती है और इस स्थिति में आपको जल्द से जल्द डॉक्टर (आँख विशेषज्ञ) से सम्पर्क करना चाहिए।

↬ Conjunctivitis (नेत्रश्लेष्मलाशोथ)

यह एक ऐसी स्थिति है जो Conjunctiva की सूजन का कारण बनता है,  एक ऊतक जो आंखों के सामने लाइनों में होती है। यह एलर्जी, वायरस या बैक्टीरिया के कारण होने वाले संक्रमण के कारण हो सकता है। कोंजक्टिवेटाइटिस, जिसे गुलाबी आंख भी कहा जाता है, जो खुजली, लाली (Redness) और आँखों में पानी बहने का कारण बन सकता है।

↬ ब्लेफेराइटिस और स्टाई:

 ब्लेफेराइटिस एक ऐसी स्थिति है जिसमें पलक की तैलीय ग्रंथियों में सूजन और संक्रमण होता हैं। यदि यह संक्रमण पलक पर उठ गए बम्प का कारण बनता है, तो इसे एक स्टाई या चालाज़ियन के रूप में जाना जाता है। यह स्पर्श करने पर बेहद दर्दनाक और संवेदनशील हो सकता है। यदि इस स्थिति का अच्छी तरह इलाज़ ना किया जाए, तो यह आपको दोबारा परेशानी में डाल सकती है।

↬ कॉर्नियल घर्षण: 

ओकुलर आंख दर्द का एक और आम कारण एक कॉर्नियल घर्षण है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें कॉर्निया (आंख का सफेद क्षेत्र) घायल (क्षतिग्रस्त) हो जाता है। इससे आंखों में दर्द और असुविधा होती है जो पानी को आँखं में मारने के बाद भी इस समस्या में सुधार देखने को नहीं मिलता है। यह आपके लिए एक संकेत है कि आपको जल्द-जल्द से नेत्र रोग विशेषज्ञ से मिलना चाहिए।

⇨ कक्षीय आंखों के दर्द के सामान्य कारणों में शामिल हैं। 

↬ साइनसिसिटिस

यह एक संक्रमण है जो आंख में ऊतकों की सूजन और फुलाव का कारण बनता है। जब संक्रमण होता है, तो यह आंखों के पीछे दबाव पैदा कर सकता है, जिससे आंखों में दर्द होता है। यह साइनस संक्रमण की जगह और गंभीरता के आधार पर एक या दोनों आंखों में दर्द का कारण बन सकता है। साइनसिसिटिस के अन्य सामान्य लक्षणों में नाक का बहना, सिरदर्द, और बुखार शामिल है

↬ माइग्रेन

माइग्रेन (सिरदर्द) से पीड़ित ज्यादातर लोग आंखों के दर्द का अनुभव करते हैं। इस प्रकार के सिरदर्द आमतौर पर सिर और आंखों में दर्द का कारण बनते हैं। यह ज्यादातर प्रकाश (Light), मतली या उल्टी की संवेदनशीलता के साथ होता है।

↬ ग्लूकोमा 

यह एक ऐसी स्थिति है जो आंखों के अंदर इंट्राओकुलर दबाव या दबाव में वृद्धि के कारण होती है। मधुमेह में सामान्य जटिलताओं में से एक, यह ऑप्टिक तंत्रिका को प्रभावित कर सकता है और समय पर इलाज़ नहीं होने पर अंधापन का कारण बन सकता है। आंखों के दर्द के अलावा ग्लूकोमा के लक्षण सिरदर्द का होना भी हैं, परिधीय (घेरे) दृष्टि में कमी, आंखों में लाली (Redness), Light में देखने में परेशानी, और प्रकाश के चारों ओर Halos जैसे दृष्टि परिवर्तन।



↬ ऑप्टिक न्यूरिटिस - Optic Neuritis

यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें ऑप्टिक तंत्रिका जो आंखों को मस्तिष्क से जोड़ती है, उसमें सूजन हो जाती है। यह एक वायरल या जीवाणु संक्रमण या अंतर्निहित ऑटोम्यून रोग जैसे एकाधिक (एक से अधिक) स्क्लेरोसिस के कारण हो सकता है। यह आमतौर पर आंखों में हल्के दर्द के रूप में शुरू होता है जब आंखें मूव होती है तो यह समस्या और भी हावी हो जाती है। अगर इलाज नहीं किया जाता है तो यह देखने के आधे या पूर्ण नुकसान का कारण बन सकता है।   




↬ केराटाइटिस: 

कॉर्निया की सूजन या संक्रमण, केराइटिसिस दोनों आंखों को प्रभावित कर सकता है। यदि यह लंबे समय तक Contact Lens पहनने के कारण होता है, तो इसे Contact Lens केराइटिस के रूप में जाना जाता है। यदि यह Herpes Simplex Virus Infection के कारण होता है, तो इसे Herpes Simplex केराइटिस के रूप में जाना जाता है। यह आमतौर पर केवल एक आंख को प्रभावित करता है और आंखों के दर्द के साथ-साथ आँख का लाल होना, आँख से पानी आना आदि समस्याओं का आपको सामना करना पड़ सकता है।

↬ आंखों के दर्द का इलाज कैसे किया जाता है?

किसी भी प्रकार के आंखों के दर्द के लिए उपचार इसके कारण पर निर्भर करता है। कुछ मामलों में, घर की देखभाल की सलाह दी जाती है, जबकि कुछ में डॉक्टर से परामर्श करने के बाद आंखों के दर्द से छुटकारा पाने के लिए दवाओं का उपयोग करना महत्वपूर्ण है। आंखों के दर्द के इलाज और रोकथाम के लिए यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं।

 ज्यादा देर तक T.V कंप्यूटर या मोबाइल का Use करने से आपकी आँखों में दर्द हो सकता है। इसलिए अगर जरुरी है तो चश्मा यूज़ कीजिए अन्यथा इन सब चीजों का प्रयोग एक सिमित समय के भीतर करें 

यदि आप अक्सर Contact Lens पहनते हैं, तो सभी सुरक्षा नियमों और स्वच्छता युक्तियों का पालन करें जैसे लेंस की सफाई से पहले और बाद में, इसे रात में पहनना आदि। सभी Rules को follow करें

 यदि आपको आंखों के दर्द का अनुभव होता है, तो आप गर्म संपीड़न (warm compress) की कोशिश कर सकते हैं क्योंकि यह आंखों को नम रखता है और रोम छिद्रों साफ़ को साफ़ रखने में मदद करता है। यह तरीका  ब्लीफेराइटिस या स्टाई वाले लोगों की मदद भी कर सकता है।

 अगर कोई रासायनिक या विदेशी प्रोडक्ट्स से आँखों को धोने पर जलन होती है तो सादे पानी के साथ अपनी आंखों को फ्लश करें।




 डॉक्टर से परामर्श किए बिना आंखों की बूंदों या एंटी-एलर्जी दवा का उपयोग न करें क्योंकि इससे स्थिति खराब हो सकती है।

 कभी भी खुद डॉक्टर न बनें। एंटीबायोटिक्स और दर्द राहतकर्ता मदद कर सकते हैं लेकिन आंखों के दर्द और संक्रमण से लड़ने के लिए किसी भी दवा लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना बुद्धिमानी है।

↬ ग्लूकोमा जैसे कुछ मामलों में, इस स्थिति के इलाज के लिए सर्जरी की सिफारिश की जा सकती है।

⇨ आंखों के दर्द के लिए डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए है?

आंखों या जलन में हल्का दर्द आम है और ज्यादातर मामलों में घर पर इलाज किया जा सकता है। हालांकि, अगर आपको दृष्टि में बदलाव के साथ आंखों में गंभीर दर्द होता है, तो यह डॉक्टर से परामर्श करने का संकेत है। मतलब आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए।


Conclusion :

आँख का दर्द वैसे तो आम समस्या है लेकिन कई बार ऐसी नौबत आ जाती है कि हमें चोट लगने, कहीं से गिरने, गेंद लगने या फिर इन्फेक्शन होने पर काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। लेकिन ऐसी स्थिति अगर आ जाए तो हमारा आपसे विनम्र निवदन है कि खुद डॉक्टर बनने की बजाय किसी विशेषज्ञ से ही सलाह मशविरा लेना बेहतर रहेगा। 

अत: हम उम्मीद करते है कि आपको ये Article (Aankhon ke dard ka karan aur ilaj in hindi) अच्छा लगा होगा, अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।  

हम मिलेगें आपसे अपने Future Articles में तब तक के लिए खुश रहिए, स्वस्थ रहिए और मस्त रहिए। 

और अगर आप इस Site पर पहली बार आएं हैं और अगर आप अपने स्वास्थ्य को संतुलित रखना चाहते है, तो इस साइट को बुकमार्क ( Ctrl +D for Pc and Laptop users ) कर लीजिए। अन्यथा आप Subscribe form के जरिए भी हमसे जुड़ सकते है। ताकि आपको हमारे प्रत्यके Article की सूचना समय-समय पर मिलती रहे। 

एक कदम स्वास्थ्य की ओर

धन्यवाद 🙏 🙏
   

Post a Comment

0 Comments

All Rights Reserved - Hashwh.com - 2018