ये उपाय दिलाएंगे आपको खांसी से राहत - Khansi ke ghrelu ilaj.

Khansi hmara jinaa haram kar deti hai chahe fir vah sukhi khansi ho, kali khansi ho ya fir balgam vaali khansi. Sab type ki khansi hmein pareshan hi karti hai. 
Khansi ke ghrelu ilaj.
बड़े बुजुर्ग kahte aaye hai ki kisi ka majak mat udaao, kisi par hanso mat, kahne ko to aapne maamuli si hansi se baat shuru ki, magar saamne vaale ne ise kaise liya, Is par sab kuch depend karta hai.

Yadi usne bhi halke-pan se liya ho, Tab to baat aayi-gayi ho jaaegi, Varna yah mamuli sa majak, Mamuli si hansi, Ladai ka karan ban skti hai. 



Aap majak udaate time bhale hi serious na ho, lekin Baad mein yah aapki chhoti si baat ladai ka bahut badaa roop le skti. Yahan tak ki kayi baar hansi kisi ko paralysis kar dene yaa jaan se maar dene tak bhi pahuncha skti hai. So is type ki hansi se bchein.

Dekha na, Ek normal si hansi vykti ko maut ke ghaat utaar skti hai. Thik yahi baat khansi par bhi laagu hoti hai. Halanki aap soch skte hai ki mamuli si khansi bhlla kya bigaad sakti hai ?

Yah kaise kisi bimari ya rog tak pahuncha sakti hai. Magar Veda aur Hakim sadaa se hi kahte aaye hai ki apne shrir mein  khansi ko mat aane do. Ise jaraa si bhi apne shrir mein jagah na dein.

Varnaa yah aise hamle karti hai ki chhoti-chhoti problems to chhodiye, Yah T.B (Tuberculosis)  aur Asthma jaise jaanleva rogon ko laakr baitha deti hai. So iska jald se jald ilaj kare aur ise jad se ukhad phenke.

Aaiye, Khansi se chhutkara pana ke liye ghrelu ilajon ka sahara lein, Natural material ka fayda uthayein.

👉 Khansi kitne parkar ki hoti hai ?

1. Sukhi khansi.
2. Tar khansi.
3. Cough yukt khansi.
4. Kali khansi.
5. Saans ki khansi.

⇨ Sukhi khansi: Ismein kaafi khansna padta hai. Munh mein chini "sugar" aadi rakhkar water ya drinkables material lene se aaraam milta hai. sukhe huye gle ko aaram milta hai.

⇨ Tar khansi: Ismein glaa thoda gilaa rahne se khansna thoda aasaan ho jata hai. aur khansne mein energy bhi kam lagti hai.  

⇨ Cough yukt khansi ya balgam vaali khansi: Yah Third stage hai ismein chest mein cough yaani balgam banta hai. Khansne se cough kabhi ukhdkar bahar aa jaata hai, To kabhi bahut adhik pareshan karta hai. 

Yadi cough jyada chipchipa (sticky) yaa jamaa hua naa ho, To khansne mein adhik pareshani nhi hoti. Cough kacha ho, To Takleef jyada hoti hai. 

Yadi cough mein yellowness (pilapan) hai to vah pakka hua cough hai usmein fir vykti ko khansne mein jyada dikkat nhi hoti hai.    



⇨ Kaali khansi: Yah khansi akasar bachon ko hoti hai. Ismein bchhe khanste-khanste hanfne lag jaate hai. Unka muh laal ho jata hai, Aur ve buri tarah thak jaate hai. Bchhon ke liye yah bahut painful khansi hoti hai.

⇨ Sans ki khansi: Ismein sans foolti hai. Yah sukhi khansi, Tar khansi ya fir balagm vaali khansi.....kaisi bhi ho sakti hai, Magar ismein sans lene mein bahut difficulty hoti hai. Yah Bronchitis, T.B "Tuberculosis" Asthma jaise rogon ki shuruaati stage hoti hai.

👉 Khansi hone ke kya karan hai ?

⇨ Khansi mainly: Galat khan-paan aur weather changes ki vajah se hoti hai. mausam badlte hi thoda sa bhi parhej (Abstinence) na kiye jaane par bhi khansi ho jaati hai.

⇨ Kabhi pet saaf nhi rahta, Aksar kabaj (constipation) rahti hai. jiske karan bhi khansi ho jati hai.



Kayi baar jaane-anjaane mein khana jyada khaa lene se bhi khansi aani shuru ho jaati hai. jyada khane se in-digest ho jaati hai, Jisse ki kayi parkar ke tejab वगैरह banne lagte hai.

Khana hmesha bhukh se thoda kam khana chahiye. Vedon ka kahna hai ki aadha pet bhojan kare, ¼ paani ke liye rahne de aur baaki bcha ¼ hawa ke liye secure rakhein.

Magar hum jeeb ke itne gulam ho jaate hai ki pet bharkar khana khate hai, Aur kai baar to apne pet ki limit se bhi jyada bhojan karne ke karan kayi dusre rogon ke sath-sath khansi bhi shuru ho jaati hai.

⇨ Digestion power kamzor hone par khatti chijein, मैदे के खाद्य पदार्थ, अचार, खट्टा दही, खट्टी लस्सी आदि से गले और फिर छाती में प्रभाव पड़ता है। fir khansi ki shuruaat ho jaati hai.

⇨ Polluted environment, दमघोटू वातावरण, धुआं, स्मोकिंग आदि भी Khansi paida karte hai. Inse Bachte huye शुद्ध वायु mein jaakar lambi-lambi sans leni chahiye. Khansi Hone ke aise hi kuch aur kaaran bhi ho sakte hai. Jo hmari naasamjhi Yaa laaparvaahi se bante hai.


👉 Note:

Sabhi Type ki khansiya ek dusre ki janamdata hai, Milte-julte karan hai aur milte-julte lakshan bhi. Kayi baar ek hi samay ek se adhik prkar ki khansiya ho jaati hai.

Inmein difference dekh pana Normal vykti ke liye thoda mushkil kaam ho jata hai. So hum yahan par khansi ke liye ab tak uplabdh  sabhi parkar ke ghrelu upchar de rahe hai. Jo upchar rogi ke liye theek ho aapko uchit lage, Aap us upchar ko apni सुविधानुसार अपना सकते है। 


👉 Khansi ke ghrelu ilaj:

👉 शहद और अदरक khansi में लाभदायक होते है। शहद में अदरक का ताजा रस मिलाकर चाटने से khansi दूर हो जाती है। इस चटनी का दिन में तीन से चार बार सेवन करें। 

👉 छुहारा लें, इसकी गुठली निकालकर फेंक दें और उसमें तीन लौंग, 3 काली मिर्च (साबुत ) भर दें। फिर छुहारे को अरंड के पत्ते में लपेटकर आंच पर जला लें। इससे जो राख आखिर में बचे, उसे शहद में मिलाकर चाटने से चिपका Cough उखड़कर बाहर आ जाएगा और khansi से छुटकारा मिल जाएगा।   

👉 मुलैठी को पीसकर चूर्ण बना लें। एक बड़ा चम्मच चूर्ण, पौन चम्मच शहद में मिलाकर मिश्रण बनाएं। और फिर इस मिश्रण को धीरे-धीरे दिन में तीन बार चाटें। इससे khansi ठीक हो जाएगी। 

👉 चाय बनाएं, लेकिन चाय (चाय पत्ती) की जगह पुदीने की तीन-चार पत्तियां डालें। इसमें नमक या नमक की जगह मीठा डालें, जैसे आपको स्वाद अच्छा लगे उस प्रकार से कीजिए, इसे पिने से khansi नहीं रहती। 

👉 मुंह में छोटी इलायची धीरे-धीरे चबाते रहें और रस चूसते रहें। इससे khansi में लाभ होगा। 

👉 यदि khansi के साथ सांस भी फूलती है, तो निम्बू में पीसी काली मिर्च व नमक भरकर, धीरे-धीरे चूसें। इससे khansi में भी फायदा होगा और सांस भी ठीक चलने लगेगी। 

👉 मुनक्का का सेवन khansi ठीक करता है। इसके बीज निकालकर फेंक दें और मुनक्के में 2 साबुत काली मिर्च रखें। इसे धीरे-धीरे चबाने से khansi में लाभ मिलेगा। 

👉 रात को सोते समय काली मिर्च वाले मुनक्के को मुंह में रखकर सो सकते है। इसका धीरे-धीरे रस गले से उतरता जाएगा और khansi पर नियंत्रण होता जाएगा। 

👉 रात को सोते समय मुंह में अदरक का टुकड़ा रखकर सोने से भी khansi पर भी नियंत्रण रहता है। इसका रस अंदर पहुंचकर बलगम को उखाड़ता है  

👉 छोटी पीपल का बारीक चूर्ण शहद के साथ मिलाकर बच्चे को चटाएं। यह बच्चों की khansi को दूर करेगा, साथ ही बुखार, हिचकी, आफरा आदि में भी लाभ पहुंचाएगा। 

👉 प्याज के एक चम्मच रस को एक चम्मच शहद में मिलाकर चाटें। इससे khansi खत्म हो जाएगी। 

👉 दो चम्मच शुद्ध देशी घी में थोड़ा गुड़ मिलाकर मिश्रण बना लें, इसे गरम करके खाने से khansi ठीक हो जाती है। 




👉 घी और सेंधा नमक मिलाकर छाती पर धीरे-धीरे मालिश करने से khansi से आराम मिलता है। मालिश करते समय हवा न लगने दें। 

👉 मिश्री तथा काली मिर्च को समान वजन में लेकर इक्क्ठा पीसें। उसमें देशी घी डालकर काबुली चने के बराबर की गोलियां बनाकर सुखा लें। गोलियां छाया में सुखाएं, धूप नहीं, हर 6 घंटे बाद एक गोली चूसें। इससे khansi शांत हो जाएगी।  जिन्हें खांसने से सांस चढ़ जाता है, उनके लिए भी ये गोलियां लाभकारी है।    

👉 अंगूर का रस भी khansi पर नियंत्रण करता है तथा सहन शक्ति में सहायक होता है। एक कप मीठे अंगूर का रस निकालकर (इसमें जरूरत के अनुसार पीसी हुई मिश्री भी मिलाएं) पिने से khansi जड़ से समाप्त हो जाती है। 




👉 चीनी तथा भुनी हुई फिटकरी, दोनों एक-एक रत्ती बराबर मिलाकर गुनगुने पानी से प्रात: सायं ले। 4 से 5 दिन तक इसके सेवन से Kaali Khansi ठीक हो जाएगी। 

👉 काली मिर्च का बारीक पाउडर तथा इसमें 5 गुणा ज्यादा गुड़ मिलाकर काले चने के बराबर की गोलियां बनाएं। इन गोलियों को हर चार घंटे बाद चूसने से khansi में काफी फायदा होगा। 

👉 यदि बच्चा खांसी से परेशान हो रहा है, तो उसकी छाती पर सरसों के तेल की मालिश करें, यदि इस तेल में सेंधा नमक मिला लें, तो और भी अधिक आराम मिलेगा। 


👉 काली मिर्च का बारीक चूर्ण तथा उसमें बराबर मात्रा में मिश्री मिलाकर शहद के साथ चाटने से रोगी की खांसी तथा बलगम खत्म को जाती है। 


👉 जिस व्यक्ति को Khansi की शिकायत रहती है, वह जरा खान-पान में परिवर्तन करके देखे, इससे काफी लाभ होगा जैसे:


  1. भोजन सदैव हल्का हो, आसानी से पचने वाला हो। बासी न हो। 
  2. अपने आहार में अंगूर, मीठे सेब, अनन्नास आदि को शामिल करें। 
  3. गरम पानी में निम्बू का रस निचौड़कर पिएं। 
  4. किसी प्रकार से थोड़ा काला नमक खाएं, इसे आप निम्बू पानी में भी मिलाकर पी सकते है। 
  5. यदि कब्ज़ के साथ khansi भी हो, तो कभी कभी एनिमा भी लें। 
  6. रात को सोते समय एक चम्मच त्रिफला खाएं। 
  7. कभी भी खाना पेट भरकर न खाएं, कुछ हद तक पेट खाली हमेशा रहने दें। 
  8. Food poisoning se kaise bchein ?

👉 Conclusion:   

Khansi तंग न करें, बार-बार न हो या कोई अन्य बड़ा रोग न बने, इसलिए khansi को जड़ से उखाड़ने के लिए ऊपर दर्जनों इलाज़ दिए हैं। इनमें से जो upchar आपको उचित लगे, उसको आप अपना सकते हैं। जब तक खांसी पीछा न छोड़ जाए तब तक उपचार करते रहें।    

👉 Read Also:




उम्मीद है आपको ये Article "Khansi ke Ghrelu ilaj" अच्छा लगा होगा। अगर आपने इनमें से कोई भी नुस्खा अपनाया है तो निचे Comment box में जरूर बताएं की उस नुस्खे के प्रयोग से आपको क्या लाभ हुआ। 

Stay Healthy Stay Cool 👈 👈 

Post a Comment

2 Comments

  1. stayhealthy.site Thanks for sharing this wonderful blogs with us.we are thankful to you because you always provides us very useful and wonderful information.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank You Sandeep Sinha Ji.....
      Aapka Hashwh.com Par Swagat hai

      Keep In Touch
      Thanks & Regards

      Stay Healthy Stay Cool :)

      Delete

All Rights Reserved - Hashwh.com - 2018