महिलाओं की डाइट कैसी होनी चाहिए | Breastfeeding diet for mothers

Breastfeeding diet for mothers 👉 बच्चे के जन्म के बाद महिलाओं को अपने खान-पान "diet" का विशेष तौर पर ख्याल रखना चाहिए। ये न केवल उनके लिए, बल्कि उनके नवजात शिशु के लिए भी बहुत जरूरी है।

क्योंकि वह अपनी पोषक आवश्यकताओं के लिए पूरी तरह मां पर निर्भर होता है कुछ महिलाएं डिलीवरी के बाद अपना वजन झटपट कम करना चाहती है तो कई अपने खान-पान को लेकर लापरवाह रहती हैं।
 Breastfeeding diet for mothers.
लेकिन उन्हें यह समझना चाहिए कि पोषण ही अच्छे स्वास्थ्य का आधार है। इसलिए आज हम इसी विषय पर चर्चा करने वाले है की स्तनपान कराने वाली माँ का आहार यानी की डाइट कैसी होनी चाहिए ?

ताकि आने वाले समय में माँ और बच्चा दोनों स्वस्थ और बेहतरीन ज़िन्दगी व्यतीत कर सकें।

👉 संतुलित-पोषक भोजन का सेवन करें। 

स्तनपान कराने वाली महिलाओं को संतुलित और पौष्टिक भोजन का सेवन करना चाहिए जिसमें साबुत अनाज, फल, सब्जियों, दूध और दुग्ध उत्पाद संतुलित मात्रा में हों। फाइबर अच्छी मात्रा में हों। 

दिन में तीन बार मेगा मील खाने की बजाय 6 बार मिनी मिल खाना चाहिए शाकाहारी महिलाओं में गर्भावस्था में स्तनपान "Breastfeeding" के दौरान विटामिन B12 की कमी हो जाती है। 



इसलिए डॉक्टर से मिलकर इसके सप्लीमेंट्स ले। मांसाहारी है तो थोड़ी मात्रा में चिकन, मांस और मछलियों को भी भोजन में शामिल करें। 
एक शोध के अनुसार स्तनपान कराने वाली महिलाओं को प्रतिदिन लगभग 71 ग्राम प्रोटीन लेना चाहिए। 

👉 बढ़ा दें कैलोरी Intake

स्तनपान "Feeding" कराने वाली महिला को प्रतिदिन 500 से 550 से अतिरिक्त कैलोरी का सेवन करना चाहिए ताकि मां और बच्चे दोनों की पोषक आवश्यकताएं पूरी हो सके। 

अतिरिक्त कैलोरी पोषण भोजन से आना चाहिए। जंक फूड से नहीं। 

चाय कॉफी कम पिएं, दिन में 300 मिलीग्राम से ज्यादा कैफिन का सेवन ना करें। अधिक कैफिन से बच्चे में बेचैनी और चिड़चिड़ापन देखा जाता है। 

👉 महिलाओं के लिए Super Foods.  

वैसे तो स्तनपान कराने वाली महिलाओं को सभी प्रकार के पोषक खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। 

लेकिन कुछ चीजें हैं जिन्हें उन्हें अपनी Diet में जरूर शामिल करना चाहिए ताकि गर्भावस्था, प्रसव और स्तनपान के दौरान हो रहे शारीरिक बदलावों के अनुसार शरीर की पोषक आवश्यकता पूरी हो सके। 

👉 दूध और दुग्ध उत्पाद 

स्तनपान कराने वाली महिलाएं कम वसा वाले दूध, पनीर, दही और दूसरे दुग्ध उत्पादों को Diet Chart में शामिल करें। 

इनमें Calcium प्रोटीन और विटामिन डी अच्छी मात्रा में होते हैं यह पोषक तत्व मां के लिए तो जरूरी होते ही है साथ ही साथ बच्चे की हड्डियों के विकास के लिए बेहद जरूरी होते है। 

👉 अंडे 

अंडे में विटामिन A, B और D होता है अंडा उन खाद्य पदार्थों में से हैं जिनमें प्राकृतिक रूप से विटामिन D होता है इसमें प्रोटीन और मिनरल पाए जाते हैं। 

👉 संतरे 

संतरे और दूसरे फल विटामिन सी के स्रोत हैं स्तनपान कराने वाली महिलाओं को गर्भवती महिलाओं से भी अधिक विटामिन सी की आवश्यकता होती है। 


विटामिन सी रोग प्रतिरोधक तंत्र को मजबूत बनाता है और शरीर में ऊर्जा स्तर को बूस्ट करता है




👉 साबुत अनाज 

अपने नाश्ते में साबुत अनाज खाएं इससे शरीर में ऊर्जा का स्तर बना रहता है और रक्त में शुगर का स्तर भी अनियंत्रित नहीं होगा। 


👉 हरी पत्तेदार सब्जियां। 

हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक, मेथी, ब्रोकली और पत्ता गोभी विटामिन ए से भरपूर होती है जो महिला और बच्चे दोनों की सेहत के लिए फायदेमंद है इनमें आयरन, कैल्शियम, एंटी ऑक्सीडेंट और विटामिन सी भी काफी अच्छी मात्रा में होते हैं। 

👉 इन बातों का खास ध्यान रखें। 
  • खाना - छोड़े नहीं, खासकर नाश्ता नियमित अंतराल पर भोजन करें। 
  • वसा - नमक और चीनी का सेवन कम मात्रा में करें। 
  • डाइटिंग कतई ना करें गर्भावस्था में बढ़े वजन कम करने में जल्दबाजी न करें। 
  • जंक फूड सोडा और कैफीन युक्त तरल पदार्थों का सेवन अधिक ना करें क्योंकि इनमें कैलोरी की मात्रा अधिक और पोषकता बिल्कुल नहीं होती। 
  • बच्चे के जन्म के बाद कई महिलाओं में कब्ज की समस्या हो जाती है इसे दूर करने के लिए फाइबर से युक्त भरपूर भोजन खाएं, खूब सारा तरल पदार्थ लें। 

👉 भरपूर पानी पिएं 

रोज़ाना कम से कम 8 से 10 गिलास पानी पीएं जब भी बच्चे को Feed कराएं उसके पहले एक गिलास पानी ज़रूर पिएं। पानी के अलावा जूस, दूध, नींबू पानी, नारियल पानी, छाछ और सूप आदि का सेवन ज़रूर करें। 


👉 वजन घटाने में जल्दबाजी 

गर्भावस्था के दौरान सभी महिलाओं का वजन बढ़ जाता है वजन को लेकर चिंता ना करें। 


न ही झटपट वजन घटाने का प्रयास करें जब बच्चा 1 साल का हो जाए, तभी वजन कम करने का सोचें क्योंकि अगर शरीर में पोषक तत्वों की कमी होगी तो इससे बच्चे का विकास प्रभावित होगा। 

At Last 
 Breastfeeding diet for mothers


अब तो आप जान ही चुके होंगे की Breastfeeding यानी स्तनपान कराते समय माँ की डाइट कैसी होनी चाहिए।  

उम्मीद है आपको यह 'Breastfeeding diet for mothers' आर्टिकल अच्छा लगा होगा। अपने विचार कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं और यह जानकारी अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें (Sharing is Caring)

हम मिलेंगे आपसे अपने फ्यूचर आर्टिकल्स में तब तक के लिए खुश रहिए मुस्कुराते रहिए और यूँ ही स्वास्थ्य से संबंधित आर्टिकल्स पढ़ने के लिए Hashwh पर Visit करते रहिए। 

Stay Health Stay Cool 

Advertiser